नई दिल्ली, यदि आपके पैसे सहारा मे फंसे हुए हैं? और आप सहारा के इन्ही 10 करोड़ निवेशकों मे से एक हैं। तो आपके लिए आज यानि मंगलवार 18 जुलाई, 2023 का यह दिन काफी बड़ा और खुशखबरी वाला दिन है। क्योंकि आज केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह Sahara Refund Portal लॉन्च करने वाले हैं। जिसके बाद आप इस पोर्टल की मदद से सहारा मे फंसा अपना पैसा क्लेम कर सकते हैं, जिसके साथ ही पैसा वापसी की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

सबसे पहले जानते हैं की, क्या है सहारा रिफंड पोर्टल?(What is Sahara Refund Portal)

दरअसल Sahara Refund Portal खास उन निवेशकों के लिए लॉन्च किया गया पोर्टल है, जिन्होंने दशकों पहले अपना खून पसीने का पैसा सहारा की योजनाओं में लगाया था, और उसकी अवधि पूरी होने के बाद भी उनका पैसा वापस नहीं मिला। इसी की वजह से यह पोर्टल माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार लॉन्च किया गया है, जिसमें सरकार को दिसंबर से पहले निवेशकों को पैसा लौटने का आदेश दिया गया है।

इस पोर्टल पर सहारा के निवेशकों को उनका पैसा कैसे वापस मिलेगा?

यदि आप जानना चाहते है की आपको इस पोर्टल के जरिए आपका फंसा हुआ पैसा वापस कैसे मिलेगा तो इसके लिए आपको इसकी प्रक्रिया का पालन करना होगा जिसमे आपको सबसे पहले तो इस पोर्टल पर खुद को रजिस्टर करना होगा, उसके बाद आपको सहारा मे किए गए निवेश के पैसों की पूरी जानकारी इस पोर्टल पर देनी होगी जिसके बाद वेरीफिकेशन के बाद आपका पैसा आपको दिया जाएगा हालांकि इसके बारे में आपको सरकार की तरफ से पूरी जानकारी मिलेगी। इस पोर्टल के जरिए सरकार की कोशिश है की वह निवेशकों को उनका पैसा पूरे पारदर्शी तरीके से पैसे लौटाने की है।

गौरतलब है कि, सहारा निवेशकों का पैसा लौटाने के लिए सहकारिता मंत्रालय की ओर से 29 मार्च, 2023 को एक अर्जी दाखिल की गई थी। जिसके बाद  ही सुप्रीम कोर्ट ने सहारा – सेबी रिफंड खाते से केंद्रीय रजिस्ट्रर में पांच हजार करोड़ रुपये ट्रांसफर करने को कहा था, जिसके बाद ही पैसा रिफंड करने के लिए ये पोर्टल लॉन्च किया गया है।

आपको बताते चलें की सहारा समूह के निवेशकों में अधिकतर वे लोग शामिल है जो मध्यम एवं निम्न आय वर्ग से संबंध रखते हैं। जो कि बिहार, उत्तराखंड, झारखंड, उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणाऔर मध्य प्रदेश समेत कई राज्यों से संबंध रखते हैं।

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा की ख़बर के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *