नई दिल्ली,30 अगस्त,2023:- कुछ समय पहले विपक्ष ने Lok Sabha Election 2024 के लिए I.N.D.I.A नाम से नए गठबंधन का ऐलान किया था। मतलब विपक्षी गठबंधन INDIA पर बसपा सुप्रीमो मायावती ने लोकसभा चुनाव से पहले ही इस इंडिया (INDIA) और एनडीए (NDA) की गठबंधन की उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। जिसपर उन्होंने साफ कर दिया कि बसपा (BSP) दोनों गठबंधनों में से किसी के भी साथ शामिल नहीं होगी। आपको बता दें कि दोनों गठबंधन लोकसभा चुनाव की जंग में उतरने से पहले विस्तार करने की रणनीति पर काम कर रहे थे जिसमे वे अधिक से अधिक दलों को अपने साथ जोड़ने मे लगे हुए थे।

https://akm-img-a-in.tosshub.com/aajtak/images/story/202307/india-sixteen_nine.jpg?size=948:533

इसके लिए एनडीए और इंडिया गठबंधन मायावती को पाले में लाने के लिए लगातार कोशिशों में था। परंतु अब इन कोशिशों पर पानी फ़िरता नजर या रहा है क्योंकि बसपा सुप्रीमो मायावती के मीडिया के समक्ष बयान जारी किया है जिस से साफ हो गया कि, अब बसपा किसी भी गठबंधन का हिस्सा नहीं बननेवाली है।

इसके अलावा आपको बताते चलें कि वर्तमान में उत्तर प्रदेश राज्य में इंडिया (I.N.D.I.A) गंठबंधन में सपा, कांग्रेस और रालोद जैसे दल शामिल हैं। वहीं इंडिया गठबंधन को छोटे-मोटे दलों का भी साथ मिला है, जिसके जवाब में एनडीए के खेमे में बीजेपी, सुभासपा, निषाद पार्टी और अनुप्रिया पटेल अपना दल (एस) हैं। जिसके बाद से ही अब यूपी में इंडिया और एनडीए गठबंधन की तस्वीर मुख्य रूप से साफ हो गई है।

 

मीडिया से फर्जी खबर नहीं फैलाने की अपील की-

https://economictimes.indiatimes.com/thumb/msid-53031217,width-1200,height-900,resizemode-4,imgsize-102705/amit-shahs-remarks-show-bjp-is-nervous-says-mayawati.jpg?from=mdr

बसपा सुप्रीमो मायावती ने प्रेस वार्ता करके साफ कर दिया है कि उनकी पार्टी Lok Sabha Election 2024 में किसी भी गठबंधन के साथ चुनाव लड़ने नहीं जा रही है। बसपा के इंडिया के खेमे से बाहर होने पर अब अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी (SP) और जयंत चौधरी की रालोद, कांग्रेस और वाम दल बच गई है। साथ ही लोकसभा का चुनाव अकेले लड़ने का ऐलान भी मायावती ने कर दिया है। उन्होंने इंडिया गठबंधन की तरफ से बीजेपी की बी टीम बताए जाने पर भी निशाना साधा। दोनों गठबंधन से किनारा करते हुए मायावती ने मीडिया से फर्जी खबर नहीं फैलाने की अपील की. ट्वीट के जरिए उन्होंने एनडीए और इंडिया गठबंधन के ज्यादातर घटक दलों को गरीब-विरोधी, जातिवादी और  सांप्रदायिक बताया। उन्होंने कहा कि इसीलिए गठबंधन की छतरी में चुनाव लड़ने का सवाल पैदा नहीं होता।

 

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा कि खबर के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *