बेंगलुरू: ईसरो के हाल ही में लॉन्च हुए  Chandrayaan-3 मिशन ने चांद के चारों तरफ अपने सारे ऑर्बिट मैन्यूवर पूरे कर लिए हैं। जिसके बाद से Chandrayaan-3 चंद्रमा की पांचवीं कक्षा में पहुंच गया है। जोकि 153 km x 163 km की ऑर्बिट है। जिसके बाद अब चंद्रयान का कोई भी ऑर्बिट नहीं बदला जाएगा।  ईसरो के अनुसार उन्होंने 16 अगस्त की सुबह करीब 8.38 बजे चंद्रयान का इंजन एक मिनट के लिए ऑन किया गया था। आपको बताया दें कि, इससे पहले वह 150 km x 177 किलोमीटर की ऑर्बिट में था।

https://akm-img-a-in.tosshub.com/businesstoday/images/story/202308/f2ymyquxcaan8d4-sixteen_nine.jpeg?size=948:533

इस से पहले Chandrayaan-3 मिशन 5 अगस्त को चांद की पहली ऑर्बिट में पहुंचा था। और इसी दिन चंद्रयान ने चांद की पहली तस्वीरें जारी की थीं। तब से लेकर अब तक ईसरो इसकी चार बार ऑर्बिट बदल चुकी है। Chandrayaan-3 का चाँद का पहला ऑर्बिट 164 x 18074 किलोमीटर का था। जिसे 6 अगस्त 2023 को घटाकर 170 x 4313 किलोमीटर किया गया।

https://akm-img-a-in.tosshub.com/aajtak/images/photo_gallery/202308/cover-image-2-_1-sixteen_nine.jpg

जिसके बाद 9 अगस्त को भी तीसरी बार Chandrayaan-3 की ऑर्बिट बदली गई थी। तब यह चांद की सतह से 174 km x 1437 km की ऑर्बिट में घूम रहा था। चांद की ऑर्बिट में इसरो Chandrayaan-3 के इंजनों से रेट्रोफायरिंग करवा रहा है। जिसका अर्थ है कि, गति धीमी करने के लिए उलटी दिशा में यान को चला रहा है. इसके बाद 14 अगस्त को चंद्रयान-3 को 150 km x 177 km की ऑर्बिट में डाला गया था।

कल अलग किये जाएंगे प्रोपल्शन और लैंडर मॉड्यूल:-

ईसरो के अनुसार 17 अगस्त को Chandrayaan-3 के प्रोपल्शन और लैंडर मॉड्यूल अलग होंगे। जिसके बाद से दोनों मॉड्यूल चंद्रमा के चारों तरफ 100 km x 100 km की गोलाकार ऑर्बिट में होंगे। जिसके बाद 18 अगस्त की दोपहर पौने चार बजे के बीच लैंडर मॉड्यूल की डीऑर्बिटिंग की जाएगी। यानी कि उसकी कक्षा की ऊंचाई में कमी लाई जाएगी। जिसके बाद 20 अगस्त को चंद्रयान-3 के लैंडर मॉड्यूल की रात पौने दो बजे डीऑर्बिटिंग होगी।

https://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/thumb/d/d7/Chandrayaan-3_Propulsion_Module.webp/690px-Chandrayaan-3_Propulsion_Module.webp.png

फिर अंत में 23 अगस्त को लैंडर चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास लैंड करेगा। सबकुछ सही रहने पर पौने छह बजे के करीब लैंडर चांद की सतह पर उतरेगा।

 

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा की खबर के साथ

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *