नई दिल्ली,28 सितंबर (मनीष कुमार ) : अपने आवास के रेनोवेशन को लेकर घिरे दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने मामले की जांच सीबीआई को मिलने पर पीएम नरेंद्र मोदी पर निशान साधते हुए, पूछा कि “इस बार जांच में कुछ नहीं मिला तो क्या वो (पीएम) इस्तीफ़ा देंगे?” उन्होंने आगे कहा कि ये पहली बार नहीं है कि , इस से पहले भी 50 से ज़्यादा बार जांच हुई और 33 से ज़्यादा केस हुए इतनी जांच के बाद भी कुछ नहीं मिला। बकियों कि तरह इस जांच का भी स्वागत है। लेकिन हर बार की तरह ही इस बार भी कुछ नहीं मिलने वाला ये काम धाम करते नहीं बस भाषणबाजी करते हैं।

https://images1.livehindustan.com/uploadimage/library/2023/06/12/16_9/16_9_6/delhi_chief_minister_arvind_kejriwal__1686533741.jpg

दिल्ली के सीएम ने आगे कहा कि, “केजरीवाल झुकने वाला नहीं है, जितनी चाहें फर्जी जांच करवा लें, इस चौथी पास राजा को मेरी चुनौती है, अगर इस जांच में कुछ नहीं मिला तो क्या वो इस्तीफा देंगे?”

सीएम केजरीवाल ने सोशल मीडिया एक्स पर लिखा, “अब इन्होंने दिल्ली सीएम आवास की  सीबीआई जांच शुरू करवा दी।  प्रधानमंत्री जी घबराए हुए हैं, ये उनकी घबराहट दिखाता है मेरे ख़िलाफ़ जांच कोई नई बात नहीं है। अभी तक मेरे ख़िलाफ़ पिछले 8 साल में 50 से ज़्यादा मामलों में जांच करवा चुके हैं। बोले केजरीवाल ने स्कूल बनवाने में घोटाला कर दिया, बस घोटाला, शराब घोटाला, सड़क घोटाला, पानी घोटाला, बिजली घोटाला। दुनिया में शायद सबसे ज़्यादा जांच मेरी हुई होंगी, किसी केस में कुछ नहीं मिला। इसमें भी कुछ नहीं मिलेगा। जब कुछ गड़बड़ है ही नहीं तो क्या मिलेगा। “

ये भी पढ़ें:- https://haryanakikhabar.com/in-ayodhya-ram-mandir-inauguration-invitationguest-list-will-include-all-leaders-of-all-caste/

इसके अलवा उन्होंने आगे कहा कि , “एक चौथी पास राजा से और उम्मीद भी क्या की जा सकती है? 24 घंटे बस जांच-जांच का गेम खेलते रहते हैं, या फिर भाषण देते रहते हैं। काम तो कुछ करते नहीं वो चाहते हैं कि मैं भी दूसरे नेताओं और पार्टियों की तरह उनके साथ मिल जाऊँ। पर मैं इनके सामने झुकने वाला नहीं, चाहे वो मेरी जितनी मर्ज़ी फ़र्ज़ी जांच करवा लें, जितने मर्ज़ी केस कर लें मैं भी उन्हें चैलेंज देता हूँ – जैसे पिछली सारी जांचों में कुछ नहीं निकला, वैसे ही अगर इस जांच में भी कुछ नहीं निकला तो क्या झूठी जांच करने के जुर्म में इस्तीफ़ा देंगे?

आपको बता दें कि, सीबीआई ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नए सरकारी आवास के निर्माण के संबंध में दिल्ली सरकार के अज्ञात लोक सेवकों द्वारा कथित रूप से की  गई “अनियमितता और कदाचार” को देखने के लिए प्रारंभिक जांच पहले ही दर्ज कर चुकी है। ज्ञात हो कि पी.ई. यह देखने के लिए दर्ज की जाती है कि क्या आरोपों को लेकर प्राथमिकी दर्ज करने के लिए प्रथम दृष्टया कोई सामग्री है भी या नहीं।

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा की खबर के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *