अंबाला, जिलेवासियों की समस्या काम होने का नाम नहीं ले रही है, पहले अत्यधिक पानी की वजह से जलभराव की समस्या और अब पानी की कमी की समस्या का सामना करना पद रहा है। गौरतलब है, की बीते दिनों नरवाना शाखा नहर मेंसी दरार आ गई थी जिसके कारण इसकी पानी की सप्लाई रोक दी थी जो की अभी तक बहाल नहीं हो पाई है। यही कारण है कि, अंबाला शहर और छावनी क्षेत्र के निवासियों को अगले कुछ दिनों में और ज्यादा पानी की कमी का सामना करना पड़ेगा।
सार्वजनिक स्वास्थ्य एवं इंजीनियरिंग विभाग अभी कच्चे पानी की कम उपलब्धता को देखते हुए, दिन में केवल एक बार पानी की सप्लाई कर रहा है। प्राप्त जानकारी के अनुसार नदी और नहरों में हुए कटाव हुए की जगह बांध भी टूटे इन सभी को दोबारा भरने मे अभी 10 दिन से ज्यादा का समय लग सकता है। जिसकी वजह से जिलेवासी अभी पानी की समस्या को और झेलनें वाले हैं।
अंबाला शहर सेक्टर 9 निवासी ज्ञान प्रकाश कंसल ने बताया कि, “क्षेत्र में आपूर्ति किया जाने वाला पानी हमारे घरों में स्थापित आरओ सिस्टम को भी रोक रहा है। दुर्गंध है और लोग बाजार से पीने का पानी खरीदने को मजबूर हैं“। जबकि भाजपा अंबाला शहर मंडल प्रभारी रितेश गोयल ने कहा, “लगभग 90 प्रतिशत क्षेत्र नहर आधारित जल आपूर्ति पर निर्भर करता है और नरवाना शाखा में दरार के कारण आपूर्ति बुरी तरह प्रभावित हुई है। निवासियों को पानी उपलब्ध कराने के लिए लगभग 40 टैंकरों का उपयोग किया जा रहा है। हमने सिर्फ एक स्रोत पर निर्भरता कम करने के लिए शहर में ट्यूबवेलों की संख्या बढ़ाने का फैसला किया है”
एक्सईएन पीएचईडी अंबाला छावनी अनिल चौहान ने बताया कि, “यहां पिछले सात दिनों से कोई आपूर्ति नहीं हुई है, जिसके कारण केवल दो दिनों का पानी बचा है। हालाँकि, छावनी क्षेत्र के लगभग 75 प्रतिशत हिस्से की देखभाल अभी भी ट्यूबवेलों के माध्यम से की जाती है और शेष क्षेत्रों को टैंकरों की मदद से कवर किया जाएगा” इसी बीच, गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने स्थिति की जानकारी ली और अधिकारियों को जल्द से जल्द नहर आधारित जलापूर्ति बहाल करने का निर्देश दिया. उन्होंने शहरवासियों से पानी का सदुपयोग करने की भी अपील की।

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा की ख़बर के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *