अंबाला,18 सितंबर: भारतीय क्रिकेट के इतिहास में भारतीय टीम ने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में ऐसे रिकार्ड अपने नाम किये है जिन्हे कोई अन्य कप्तान नहीं कर पाया इसके साथ ही कई आईसीसी कि सभी ट्रॉफी जीती हैं। वर्ष 2004 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू करने वाले धोनी को वर्ष 2007 में भारतीय टीम का कप्तान बनाया गया था जिसके बाद उन्होंने जिस तरह से भारतीय क्रिकेट को आगे बढ़ाया, ऐसा लग रहा था मानो भारतीय क्रिकेट का नया जन्म हुआ हो।

उसी भारतीय टीम इंडिया में मोजूद थे गौतम गंभीर जो कि खुलकर अपने विचार रखने के लिए मशहूर हैं अमूमन जिस प्रकार के वह बयान धोनी और कोहली को देते आए है उन्हे देख कर ऐसा लगता है कि, वह धोनी और विराट कोहली से कुछ खास खुश नहीं रहते हैं। यही वजह है कि जब भी गंभीर धोनी की तारीफ करते है तो यह फैन्स के लिए थोड़ा हैरान कर देने वाला मंजर होता है। इसी को लेकर एशिया कप 2023 में टीम इंडिया की  धमाकेदार 10 विकेट से दर्ज की जीत के बाद गौतम गंभीर ने धोनी के बारे में जो बातें कहीं, वह यकीनन आपका दिल जीत लेंगी।

गौतम गंभीर ने स्टार स्पोर्ट्स को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि, “अगर एमएस धोनी कप्तान नहीं होते और वह अपने पूरे करियर में नंबर-3 पर ही बल्लेबाजी करते तो वे अपने करियर में बहुत सारे रन बनाते, उन्होंने टीम के लिए और टीम को ट्रॉफी जिताने के लिए अपने रनों का बलिदान दिया।” अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के इतिहास में अभी तक महज 15 बल्लेबाज ऐसे हैं, जिन्होंने वनडे इंटरनेशनल में 10,000 से ज्यादा रन बनाए हैं। जिनमे से अधिकतर ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने टॉप ऑर्डर में ही बैटिंग की है।

और मिडिल तथा लोअर मिडिल ऑर्डर में बल्लेबाजी करने के बाद सबसे ज्यादा वनडे इंटरनेशनल रन केवल एमएस धोनी के नाम ही दर्ज हैं। धोनी ने भले अपने शुरुआती दौर में तीसरे नंबर पर बैटिंग की हो, लेकिन बाद में जब वे भारतीय क्रिकेट टीम कप्तान बनाए गए तो वह पांचवें, छठे या सातवें नंबर पर बैटिंग करने लगे। आपको यह भी बताते चलें कि एमएस धोनी क्रिकेट इतिहास के सबसे सफल कप्तान हैं तथा धोनी की कप्तानी में भारत ने 2007 टी20 वर्ल्ड कप, 2011 वर्ल्ड कप और 2013 चैम्पियंस ट्रॉफी खिताब जीता है।

 

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा कि खबर के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Exit mobile version