Haryana Weather Alert: इस बार हरियाणा में मॉनसून सामान्य से ज्यादा बरस चुका है, और फिलहाल प्रदेश में मानसून से कोई राहत मिलने के आसार नहीं दिख रहे हैं। अभी दोबारा मौसम विभाग अभी 31 जुलाई तक बारिश का अलर्ट जारी कर चुका है।

आज भी  हमारे प्रदेश के 16 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी है. ये जिले हैं पंचकुला, अंबाला, यमुनानगर, कुरूक्षेत्र, कैथल, करनाल, महेंद्रगढ़, रेवारी, झज्जर, गुड़गांव, नूंह, पलवल, फरीदाबाद, रोहतक, सोनीपत और पानीपत।  इनमे जिलों में 200 मिलीमीटर से अधिक बारिश होने कि चेतावनी है, जबकि यलो अलर्ट वाले जिलों में भी 200 मिलीमीटर से कम बारिश होने कि संभावना है।

अंबाला में दो नदियों मारकंडा और बेगना का पानी राष्ट्रीय राजमार्ग-344 तक पहुँच गया था। यह सड़क खेतों से होकर जाती है. जिसकी वजह से पानी पांच गांवों में घुस गया है और सभी गांवों में बाढ़ आ गई है. इसके चलते अंबाला कैंट प्रशासन ने एक घोषणा की है. कुरूक्षेत्र में मारकंडा का जलस्तर भी बढ़ गया है। लेकिन सरकार का कहना है कि राज्य में बाढ़ की स्थिति बेहतर होने लगी है।

बाढ़ के बाद अब बीमारी का खतरा:-

आपको बताते चलें कि हरियाणा में 11 जुलाई से ही बाढ़ के हालात बन गए थे, जिस से अभी भी कई जगह पानी भरा हुआ है। जिस से प्रदेश में अनेकों बीमारियों का खतरा मंडराने लगा है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, सूबे में अब तक बुखार के 8125, पेट से जुड़ी बीमारियों के 1932, आई फ्लू के 3000, त्वचा से संबंधित रोग के 10444 व अन्य रोगों के 35249 मरीज मिल चुके हैं। इसके अलावा सांप काटने के 44 मामले सामने आए और 2 लोगों की मौत हुई है।

फिलहाल हरियाणा के 4 जिलों की डेंगू से सबसे ज्यादा हालत खराब है। जींद में डेंगू के अब तक 50 केस सामने आ चुके हैं। वहीं यमुनानगर में 14, रोहतक में 13, रेवाड़ी में 15 और सोनीपत में 8 मामले दर्ज किए जा चुके हैं। नूंह में एक मरीज की मौत भी हुई है। इसके अलावा मलेरिया के 18 और चिकनगुनिया के 3 कंफर्म केस आ चुके हैं।

 

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा कि खबर के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *