नई दिल्ली,18 सितंबर: भारत में चल रहे India Vs Bharat Debate और सनातन धर्म को लेकर चल रहे विवाद में योगगुरु रामदेव भी कूद पड़े हैं जिसमें उन्होंने अपना पक्ष रखते हुए सोमवार को कहा कि, “जो भी लोग सनातन धर्म को गालियां दे रहे हैं, या उसे खत्म करने की बात कर रहे हैं वो 2024 में खत्म हो जाएंगे, उनका सबका मोक्ष हो जाएगा।”

https://images.livemint.com/rf/Image-621x414/LiveMint/Period2/2016/08/15/Photos/Processed/baba-klnC--621x414@LiveMint.JPG

इसपर उन्होंने आगे कहा कि इनमें से कुछ भूत-पिशाच, राक्षस-ब्रह्मराक्षस बन कर दूसरे और तीसरे लोक में पहुंच जाएंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि यह सनातन का गौरव काल है। इसके दौरान रामदेव ने भारत बनाम इंडिया की चल रही बहस पर अपनी राय रखते हुए कहा कि जिनके भी डीएनए में गड़बड़ी है, उन्हें ही इंडिया अच्छा लगता है।

सनातन धर्म पर सवाल खड़े करने वालों को मिलेगा मुहतोड़ जवाब-

इसके दौरान रामदेव ने कहा कि कुछ ओछे लोगों द्वारा सनातन धर्म पर लांछन लगाकर उसे जातिवादी, भेदभाव और अन्याय वालाबता उसे बदनाम करने कि कोशिश कि जा रही है। ऐसा करने वाले लोग कुंठित मानसिकता वाले दुराग्रही लोग हैं। यकीनन ये लोग किसी एजेंडे के तहत ही विदेशी ताकतों से सुपारी लेकर सनातन धर्म को खत्म करने की बात कर रहे हैं, तथा जो लोग सनातन पर सवाल खड़े कर रहे हैं ऋषि परंपरा को, भारत और भारतीयता को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। भगवान ऐसे लोगों को सद्बुद्धि दे। यह देश राजनीतिक, सामाजिक, और बौद्धिक तौर उन सभी लोगों के जवाब देने में सक्षम है और जवाब दिया भी जा रहा है अंतत: सारे असुर पराजित होंगे।

यह भी पढ़ें:-

Gautam Gambhir on MS Dhoni: गौतम गंभीर ने एमएस धोनी को लेकर ये क्या कह दिया.. उनकी कप्तानी को लेकर कह दी ये बड़ी बात

भारत बनाम इंडिया पर भी रखे अपने विचार-

इसके अलावा जब उनसे India Vs Bharat Debate पर सवाल पूछा गया तो बाबा रामदेव ने उसपर भी अपने विचार रखते हुए कहा कि, भारत हजारों वर्ष पुरानी एक सनातन संस्कृति का उद्धोषक है। इसलिए हम तो भारत वाले हैं। जिन लोगों के डीएनए में थोड़ी गड़बड़ी है, उन लोगों को इंडिया शब्द अच्छा लगता है। हम तो भारत वाले हैं। भारत में योग है, आयुर्वेद है, सनातन संस्कृति है। उसके अंदर वेद हैं, पुराण हैं, ऋषि-मुनि हैं। इसलिए हम तो भारत और भारतीयता के उद्धोषक रहेंगे। जिनके अंदर अभी भी गुलामी है, आत्मग्लानि है। अपने आपको सनातनीय या भारतीय कहने में जिनके मन में कुंठा है, वह इंडियन कह रहे हैं अपने आपको। मेड इन भारत लिखने वाला कोई संस्थान है तो पतंजलि है। उन्होंने कहा कि गुलामी की निशानियों को मिटा करके, आत्मग्लानि, कुंठाओं से उभर करके देश को शौर्य पराक्रम और वीरता के साथ आगे बढ़ाने के संकल्प का कालखंड है।

अधिक जानकारी के लिए जुड़े रहें हरियाणा कि खबर के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *