नई दिल्ली,21 सितंबर : पिछले कुछ दिनों से भारत और कनाडा के रिश्ते अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रहे हैं। जिसमे एक दूसरे के राजनयिकों को अपने देश वापिस भेजने का आदेश हो या फिर ट्रैवल अड्वाइज़री जारी करना हो दोनों एक दूसरे को चोट पहुँचाने की भरपूर कोशिश में लगे हुए है। लेकिन इस लड़ाई में अब भारत सरकार के अलावा भारत के बिजनस ग्रुप भी उतरना शुरू कर चुके हैं। जिसमे देश के और दुनिया के सबसे बडे वाहन निर्माता महिंद्रा ग्रुप भी कूद चुके हैं।

https://www.zoomnews.in/uploads_2019/newses/pm-modi_190828504_sm.webp

 

India Vs Canada Dispute का मामला कुछ इस प्रकार है

https://ichef.bbci.co.uk/news/640/cpsprodpb/6686/live/36d0e170-56f1-11ee-8f43-13339ac8185a.jpg
बता कि फिलहाल भारत और कनाडा के बीच रिश्ते सामान्य नहीं है। जिसमे खालिस्तानी आंतकियों को लेकर कनाडा सरकार के रवैया ने दोनों देशों के रिश्तों में खटास पैदा कर दी है। इसके साथ जून में हुई हरदीप सिंह निज्जर नाम के एक कनाडाई नागरिक की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी, जिसे कि जुलाई 2020 में भारत द्वारा ‘आतंकवादी’ घोषित किया गया था। जिसको लेकर ही कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने अपने देश के सदन में उसकी हत्या का आरोप भारत पर लगाया है। जिसके बाद से ही दोनों देशों में तनाव बढ़ गया है।

 

महिंद्रा एंड महिंद्रा ने यह कहा-

जिस बीच, महिंद्रा एंड महिंद्रा (Mahinda & Mahindra) ने बड़ा ऐलान कर कहा कि उसकी कनाडा स्थित सब्सिडियरी कंपनी “रेसन एयरोस्पेस कॉरपोरेशन” ने अपना संचालन बंद कर दिया है। मुंबई स्थित वाहन निर्माता के पास उस कंपनी में 11.18 प्रतिशत हिस्सेदारी थी, जिसने स्वैच्छिक रूप से संचालन बंद करने के लिए आवेदन किया।

शेयर बाजार को दी जानकारी में महिंद्रा एंड महिंद्रा (M&M) ने कहा, ”रेसन को कॉर्पोरेशन कनाडा से 20 सितंबर 2023 को कामकाज बंद करने की मंजूरी के लिए आवश्यक दस्तावेज मिल गए, जिसकी सूचना कंपनी को दी गई।” कंपनी ने बताया कि इसके बाद रेसन ने अपना संचालन बंद कर दिया। जिसके बाद वह 20 सितंबर 2023 से कंपनी की सहयोगी नहीं है।

कंपनी के शेयरों के हाल
जैसे ही महिंद्रा एंड महिंद्रा आज इसकी घोषणा की उसके बाद इसके शेयर में आज 3% से अधिक गिरावट दर्ज की गई जिसके बाद इसके शेयर के दाम 1,584.85 रुपये पर पहुंच गए। हालांकि, इस साल में यह शेयर 25% और पिछले एक साल में 21.28% बढ़ा भी है। वहीं, पिछले पांच साल में इसमें कुल 65% तक की तेजी आई है।

 

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहे हरियाणा कि खबर के साथ

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *