गुजरात की अहमदाबाद सेशन कोर्ट ने पाकिस्तान के लिए जासूसी करने पर सिराजुद्दीन अली फकीर, मोहम्मद अयूब और नौशाद अली को उम्रकैद की सजा सुनाई है। आपको बता दें कि 2012 में अहमदाबाद क्राइम ब्रांच द्वारा सिराजुद्दीन अली फकीर, मोहम्मद अयूब और नौशाद अली को गिरफ्तार किया था।

गौरतलब है कि, तीनों व्यक्ति पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आई.एस.आई को भारतीय सेना से जुड़ी खुफिया जानकारी पहुंचाने का काम करते थे। बता दें की इन आरोपियों में से दो आरोपी अहमदाबाद के जमालपुर जबकि तीसरा राजस्थान के जोधपुर का रहने वाला है।

हालांकि एडिशनल सेशन जज अंबालाल पटेल की अदालत ने सरकारी वकील द्वारा की गई मौत की सजा की अपील को खारिज करते हुए कहा कि तीनों का अपराध “रेयरेस्ट ऑफ रेयर कैटेगरी” में नहीं आता। इसलिए उन्हे फांसी की सजा देना उचित नहीं होगा इसके साथ ही अदालत ने यह भी कहा कि तीनों भारत में रहते थे, लेकिन उनका प्रेम पाकिस्तान के लिए था।

इसके साथ ही अदालत ने तीनों अपराधियों को आईपीसी की धारा 121, 121 (A) और 120 (B) और आईटी अधिनियम की धारा 66 (F) के तहत कठोर आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम की धारा 3 के तहत 14 साल का कठोर कारावास और IPC की धारा 123 के तहत 10 साल जेल की सजा सुनाई है। गौरतलब है की सभी सजाएं एक साथ ही चलेंगी।

पाकिस्तान, कराची में मिले थे आईएसआई एजेंट से:-
भरत पाटनी के अनुसार इस मामले में अदालत ने कुल 75 गवाहों से पूछताछ की। क्राइम ब्रांच द्वारा की गई जांच के अनुसार अहमदाबाद के जमालपुर का रहने वाला आरोपी सिराजुद्दीन 2007 में पाकिस्तान के कराची शहर गया था, जहां उसकी मुलाकात तैमूर नाम के आई एस आई  एजेंट से हुई थी। जिसके बाद उसने मोहम्मद अयूब को भी अपने साथ मिलया। जबकि, राजस्थान का नौशाद अली 2009 में पाकिस्तान पहुंचा था, जहां वह आई एस आई ​​​​ एजेंट ताहिर से मिल था ।

इस प्रकार करते थे बात चीत:-
अदालत में दायर क्राइम ब्रांच ने अपनी चार्जशीट में बताया कि ये तीनों भारत की खुफिया जानकारी पाकिस्तान तक पहुचाने के लिए आई एस आई द्वारा दी गई दो फैक ईमेल आईडी और पससवॉर्ड kapoor201111@yahoo.com और nandkeshwar@yahoo.com दिए गए थे। ये आरोपी इन मेल आइडी में अपने मैसेज को ड्राफ्ट में सेव कर देते थे। वहीं, दूसरी ओर पाक खुफिया एजेंसी के एजेंट मेल ओपन कर ड्राफ्ट मैसेज निकाल लेते थे। कुछ इस प्रकार ये जानकारी पहुंचाते थे पाकिस्तान।

 

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा की ख़बर के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *