रांची,झारखंड (Love Jihad Case) : सीबीआई की विशेष अदालत ने गुरुवार को नेशनल शूटर तारा शाहदेव के पति को रेप, धोखे से शादी करने और उसके धर्म परिवर्तन के प्रयास के आरोप में अंतिम सांस तक की कैद की सजा सुनाई है। अपको बता दें कि, “रंजीत कोहली” उर्फ “रकीबुल हसन” को 9 साल बाद अलग-अलग दो धाराओं में यह सजा सुनाई है।

https://gumlet.assettype.com/navjivanindia%2F2023-10%2Fcfd92546-c4a8-4799-a6f6-5b83dc153d09%2FTara_Shahdeo.jpg?rect=0%2C46%2C825%2C464&format=auto

जबकि इसी मामले में झारखंड हाईकोर्ट के पूर्व रजिस्ट्रार मुश्ताक अहमद को 15 साल एवं कोहली की मां कौशल रानी को Love Jihad Case में 10 साल कैद की सजा सुनाई गई। यह सजा सीबीआई के विशेष न्यायाधीश पीके शर्मा की अदालत ने सुनाई।

यह भी पढ़ें:- https://haryanakikhabar.com/newsclick-raid-delhi-police-ask-15days-remand/

 

सजा के अलावा अदालत ने “रंजीत कोहली” उर्फ “रकीबुल हसन” पर 1.25 लाख एवं अन्य पर 50-50 हजार का जुर्माना भी लगाया और जुर्माना नहीं देने पर कोहली को अतिरिक्त 18 माह एवं अन्य को अतिरिक्त छह-छह माह की जेल काटनी होगी

https://www.oneindia.com/img/2019/12/cbi-1575675981.jpg

सीबीआई की विशेष अदालत ने रकीबुल हसन को आपराधिक साजिश रचने के साथ साथ एक ही औरत के साथ लगातार दुष्कर्म करने और Love Jihad Case में यह सजा सुनाई जबकि अन्य दोनों को आपराधिक साजिश राचने में उसका साथ देने के लिए सजा सुनाई गई है। आपको बता दें कि, अदालत ने तीनों को 30 सितंबर को दोषी ठहराया था। सीबीआई के वरीय लोक अभियोजक प्रियांशु सिंह की ओर से पेश 26 गवाहों एवं दस्तावेजों के आधार पर यह सजा सुनाई गई।

 

रकीबुल से मुलाकात रजिस्ट्रार ने कराई थी-

नैशनल शूटर तारा शाहदेव ने सीबीआई को बताया कि, वह अपने पति को पूर्व रजिस्ट्रार मुश्ताक के जरिए जानती थी। यह मुश्ताक ही था जो उसके और रकीबुल के जबरन निकाह कराने के लिए एक मौलवी को भी लाया था, जिसपर उसने पहली बार हिंदू रीति-रिवाज से शादी की थी। मुश्ताक के इस अपराध के लिए उसे रजिस्ट्रार को सेवा से भी बर्खास्त कर दिया गया था।

 

यह भी पढ़ें:- https://haryanakikhabar.com/google-pixel-8-pro-launched/

 

Love Jihad Case में धर्म छुपाकर साल 2014 में धोखे से की शादी-

नैशनल शूटर ने सबसे पहले 7 जुलाई 2014 को हिंदू परंपरा के अनुसार रंजीत उर्फ रकीबुल हसन से शादी के बाद 8 जुलाई को निकाह के जरिए जबरन उनकी शादी संपन्न कराने की कोशिश की गई। जैसे ही शादी हुई उसके बाद शूटर को अमानवीय यातनाएं दीं गई, जिसमें बुरी तरह पिटाई, कुत्ते से कटवाना और धर्म परिवर्तन करने के लिए लगातार धमकियां देना शामिल है। जिस से तंग आकर तारा ने 19 जुलाई 2014 को हिंदपीढ़ी थाने में अपने तत्कालीन पति और उसकी मां के खिलाफ मामला दर्ज कराया था।

 

जानिए किन धाराओं में कितना सजा और जुर्माना लगा है-

रकीबुल हसन , धारा 376(2)(एन) (लगातार दुष्कर्म) अंतिम सांस तक कैद व जुर्माना 50 हजार। धारा 496 (यह जानते हुए कि यह शादी विधि सम्मत नहीं है फिर भी शादी करना) के आरोप में पांच साल व 25 हजार रुपए जुर्माना।
मुश्ताक अहमद, 120बी सहपठित 376(2)(एन), 496, 298, 323 व 506 में (साजिश के तहत लगातार दुष्कर्म में मदद का आरोप ) में 15 साल कैद व जुर्माना 50 हजार। धारा 298 (धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाना) – छह साल की सजा।
कौशल रानी,  120बी सहपठित 376(2) (एन), 496, 298, 323 व 506 में 10 साल की सजा और जुर्माना 50 हजार रुपये। भादवि की धारा 298 (धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाना) – छह साल की सजा।

26 गवाहों की गवाही बनी कठोर सजा का आधार

सीबीआई द्वारा दायर चार्जशीट के अनुसार कुल 26 गवाहों को पेश किया था। जो अभियुक्तों के कठोर सजा का आधार बने जिसमे पीड़िता के साथ एमबीए छात्र निशांत सिंह, खेलगांव स्टेडियम के मैनेजर कुंदन कुमार साव, कारोबारी रवि कुमार शर्मा, पूर्व मंत्री हाजी हुसैन अंसारी, रांची का काजी काजी जन मो. मुस्ताफुर, सिविल सर्जन रांची डॉ. विजय बिहारी प्रसाद, नई दिल्ली के आरएमएल अस्पताल की सहायक प्रोफेसर डॉ. नेहा, साइबर क्राइम थाना के इंस्पेक्टर रांची के दीपिका प्रसाद, सेवानिवृत्त इंस्पेक्टर दुखहरण ताना भगत व अन्य शामिल हैं।

 

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा की खबर के साथ

One thought on “Love Jihad Case: नेशनल शूटर को प्यार में फँसाने के लिए रकीबुल से बना था, रंजीत धोखे से शादी, रेप और धर्म परिवर्तन की कोशिश में आखिरी सांस तक सजा”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *