इंफाल, पीटीआई: कुछ दिनों की शांति के बाद Manipur Violence के कारण कई  इलाकों में तनाव फिर से बढ़ गया जिसके बीच, गुस्साए लोगों की भीड़ के एक समूह ने गुरुवार रात इंफाल पूर्व के हेइंगंग में मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह के पैतृक आवास पर हमला बोलने का प्रयास किया। हालांकि वे इसमे सफल नहीं हो सके क्योंकि सुरक्षा कर्मियों ने समय रहते ही जवाबी कार्रवाई करते हुए बाद भीड़ को तितर बितर कर दिया।

https://organiser.org/wp-content/uploads/2023/07/untitled-138.jpg

इस मामले में एक सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि भीड़ की संख्या शुरू में “लगभग 500-600” थी। जिन्होंने इंफाल के हिंगांग इलाके में मुख्यमंत्री के परिवार के घर पर हमला करने का प्रयास किया गया था। जिसे सुरक्षा बलों ने घर से लगभग 100 मीटर दूर ही रोक दिया। हालांकि अब घर में कोई नहीं रहता है, परंतु फिर भी आरएएफ कर्मी घटनास्थल पर मौजूद थे और जवाबी कार्रवाई बल भी मौके पर तैनात कर रहे थे।

Manipur Violence में छात्रों की मौत के बाद बिगड़े हालात-

आपको बताते चलें कि Manipur Violence के समय सोमवार को उस समय फिर से तनाव बढ़ गया जब जुलाई में लापता दो छात्रों के शवों की तस्वीर सोशल मीडिया पर अचानक से वायरल हो गई। इन्ही दो युवकों की मौत को लेकर छात्रों ने मंगलवार और बुधवार (26-27 सितंबर) को हिंसक विरोध प्रदर्शन किया। जिसके बाद से ही राज्य में हालात नाजुक बने हुए हैं।

https://images.tv9hindi.com/wp-content/uploads/2023/06/manipur-violence-6.jpg

इस से पहले बुधवार को प्रदर्शनकारियों ने थोबुल जिले में बीजेपी दफ्तर में भी आग लगा दी थी, जबकि इंफाल में बीजेपी अध्यक्ष शारदा देवी के घर पर भी हमला किया तथा मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह का पुतला भी फ़ूका  गया। इसके अलावा इंफाल वेस्ट जिले में प्रदर्शनकारियों ने डिप्टी कलेक्टर के घर में आगजनी की कोशिश की। घर के कैंपस में खड़ी दो कारों को आग लगी दी और खिड़कियों के कांच तोड़ दिए।

साथ ही उग्र भीड़ ने गुरुवार की सुबह इंफाल पश्चिम जिले में उपायुक्त कार्यालय में भी तोड़फोड़ करते हुए कई वाहनों में आग लगा दी थी। जिसके बाद तुरंत केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवानों ने स्थिति पर काबू पाया। उरीपोक, यैसकुल, सगोलबंद और टेरा इलाकों में हिंसक प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच झड़प हुई जिसके कारण सुरक्षाबल को स्थिति पर काबू पाने के लिए आंसू गैस के कई गोले छोड़ने पड़े। सुरक्षाबलों द्वारा की गई इस कार्रवाई में दर्जनों लोग घायल हुए, वहीं कई जवान भी जख्मी हुए हैं।

यह भी पढ़ें :- https://haryanakikhabar.com/nuh-violence-new-update-144-in-nine-districts/

 

SSP राकेश बलवाल 2012 बैच के IPS अफसर हैं। 2021 में श्रीनगर के SSP बनाए गए थे।

Manipur Violence से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने श्रीनगर के SSP राकेश बलवाल को जम्मू-कश्मीर से मणिपुर ट्रांसफर कर दिया है। आपको बता दें कि बलवाल 2012 बैच के IPS अफसर हैं। वे 2021 के अंत में श्रीनगर के SSP बनाए गए थे। हिंसा के बीच उन्हें मूल कैडर मणिपुर भेजा गया है।

सख्ती से निपटेगी पुलिस-

https://pothashang.in/wp-content/uploads/2023/09/Police-Press-conference-14-Sep-2023.jpeg

मणिपुर पुलिस का कहना है कि, ” हमारी प्राथमिकता लोगों, खासकर छात्रों से निपटने में न्यूनतम बल का प्रयोग करने की थी, तथा मणिपुर पुलिस ने छात्रों से शांति बनाए रखने और सामान्य स्थिति को जल्द वापस लाने में कानून प्रवर्तन एजेंसियों के साथ सहयोग करने की अपील भी की, और कोई भी शरारती तत्व अगर मौजूदा स्थिति का फायदा उठाने की कोशिस करेगा तो उस से पुलिस सख्ती से निपटेगी। इसके अलावा सभी मामलों की जांच के लिए संयुक्त सुरक्षा बल हरसंभव प्रयास कर रहे हैं”

मणिपुर से NIA ने संदिग्ध आतंकी किया गिरफ्तार-

नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) ने मणिपुर से एक संदिग्ध आतंकी को गिरफ्तार किया है। जांच एजेंसी के अधिकारी ने शनिवार 23 सितंबर को यह जानकारी दी। उनका दावा है कि आरोपी म्यांमार स्थित टेरर ग्रुप का सदस्य है। जो कि Manipur Violence जैसी जातिया हिंसा का इस्तेमाल कर देश के खिलाफ नया युद्ध छेड़ने के लिए करने की साजिश कर रहा था।

ज्ञात हो कि Manipur Violence में लगभग पांच महीनों से जारी हिंसा में अभी तक करीब 180 लोगों ने अपनी जान गंवाई है इसके साथ ही हजारों लोग के जीवन पर इसका नकारात्मक असर भी पड़ा है।

 

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा की खबर के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *