नई दिल्ली,15 सितंबर: भारत में जब से यह सरकार आई है तब से देश में सड़कें बनने की रफ्तार में जो तेजी आई है वो काबिल ए तारीफ है पूरा देश इस मिलकर विकास की राह पर जिस रफ्तार से दौड़ रहा है पूरी दुनिया उसे देख और सराह रही है।

सरकारी आंकड़ों के अनुसार, इस व्यक्त पूरे देश में करीब चार हजार किलोमीटर से ज्यादा लंबे एक्सप्रेसवे मौजूद हैं, जिनके अलावा भी, दस से ज्यादा एक्सप्रेसवे प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है। एन एच ए आई ने इस योजना के तहत फिलहाल पहले चरण में ईस्टर्न वेस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे के किनारे हेलीपैड बनाने का फैसला लिया गया है।

https://pbs.twimg.com/media/EQLfUO4U0AInHLk.jpg:large
Source:- NHAI

हरियाणा सरकार और भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा आयोजित बैठक में इस विषय पर सहमति बन गई है। जिसके साथ ही इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन तथा नई इलेक्ट्रिक बसों की संख्या बढ़ाने और एक्सप्रेसवे और एनएच को इंटरकनेक्ट करने समेत अन्य कार्यों में तेजी लाई जाएगी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार फिलहाल, इस एक्सप्रेसवे के किनारे 30-50 किलोमीटर की दूरी पर हेलीपैड बनाए जाने पर सहमति बनी है, ताकि किसी बड़ी दुर्घटना की स्थिति में एक्सप्रेसवे के किनारे एयर एंबुलेंस के जरिए घायलों को बचाया जा सके। आसपास के शहरों में आपात स्थिति में एयर एंबुलेंस के जरिए मरीजों को कम समय में ही शिफ्ट किया जा सकेगा। आपात स्थिति में घायलों को तुरंत मदद पहुंचाने के लिए दिल्ली- एनसीआर में एक्सप्रेसवे के किनारे हेलीपैड बनाने का फैसला किया गया है।

इसके अलावा फिलहाल दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर भोजपुर से पहले एक हेलीपैड पहले ही बनाया जा चुका है। जबकि, दिल्ली से देहरादून को जोड़ने वाले एक्सप्रेसवे पर बागपत के खेकड़ा से देहरादून के बीच करीब तीन से चार जगहों पर हेलीपैड बनाने की योजना है।

 

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा कि खबर के साथ

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *