महाराष्ट्र,30 सितंबर : बीजेपी पार्टी में कई नेता ऐसे हैं जो अपने बेबाक बयानबाजी के मशहूर हैं उन्हे अपनी पार्टी की विचारधारा से कोई मतलब नहीं होता उन्हे जो बोलना है वो बेधड़क बोलते हैं इन्ही मे से एक है नितिन गडकरी भी शामिल हैं ने Loksabha Election 2024 से पहले ही बड़ा ऐलान कर दिया है। दरअसल महाराष्ट्र के वाशिम जिले में एक सड़क का उद्घाटन करने पहुंचे केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने लोगों के सामने Loksabha Election 2024 पर होने वाले खर्च को लेकर दो टूक राय रखी।

https://akm-img-a-in.tosshub.com/aajtak/images/story/202309/nitin-sixteen_nine_0.jpg?size=948:533

उद्घाटन समारोह में उन्होंने सीधे कहा कि, इस बार लोकसभा चुनाव में वह प्रचार करने के लिए पोस्टर या बैनर नहीं लगाएंगे। इसके साथ ही इस बार चुनाव में लक्ष्मी के भी दर्शन नहीं होंगे, माल-पानी भी नहीं नहीं मिलेगा। चाय-पानी भी नहीं कराऊंगा लेकिन सीधे तौर पर ईमानदारी से सेवा करूंगा। इसके अलावा चुनाव में वोट के लिए एक पैसा भी नहीं दूंगा। न मैंने पैसा खाया है और न ही खाने दूंगा। जिन्हें वोट देना है वो दें, नहीं तो न दें। लेकिन राजनीति करने के लिए झूठ बोलने की कोई जरूरत नहीं है

 

अपने बेबाक बोल के लिए चर्चा में रहते हैं, नितिन गडकरी-

https://www.jagranimages.com/images/newimg/26032023/26_03_2023-nitin_gadari_23367448.webp


सड़क परिवहन, राजमार्ग व जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी हमेशा से ही अपने बेबाक बोल के कारण चर्चित रहे हैं। महाराष्ट्र के वाशिम मे हुए एक समारोह में उन्होंने हाल ही में उन्होंने कहा कि अगले तीन महीने में देश के सभी हाइवे पर गाड़ी मक्खन की तरह चलेगी। उन्होंने कहा कि इस साल के अंत तक 1.46 लाख किलोमीटर हाइवे के गड्ढे भर दिए जाएंगे। जिसके दौरान उन्होंने खुली चेतावनी दी कि अगर दिसंबर के बाद हाइवे के रास्ते में क्रैक मिला तो ठेकेदार को बुलडोजर के सामने डालूंगा।

इसके अलावा जुलाई 2023 में उन्होंने मुंबई के एक कार्यक्रम में अपने ही सरकार को निशाने पर ले लिया था। तब उन्होंने खुलकर कहा था कि ये सरकारें समय पर फैसले नहीं लेती। राजनीति अब सत्तानीति हो गई है, इसका लोक कल्याण से लेना-देना नहीं रह गया है। ऐसा देखकर लगता है कि राजनीति से सन्यास ही ले लिया जाए। मार्च 2023 में भी उन्होंने देश की राजनीति पर बड़ा बयान देते हुए कहा था कि, वह देश में जैव ईंधन को लेकर प्रयोग कर रहे हैं। अगर लोगों को पसंद आए तो ठीक वरना वोट मत देना। उन्होंने खुले शब्दों में कहा था कि वे पॉपुलर पॉलिटिक्स के लिए ज़्यादा मक्खन लगाने के लिए तैयार नहीं हैं।

 

यह भी पढ़ें:- https://haryanakikhabar.com/karnataka-bandh-schools-and-colleges-holiday/

 

2014 लोकसभा चुनाव में कांग्रेस से छीनी थी नागपुर सीट-


सड़क परिवहन, राजमार्ग व जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी बीजेपी के ऐसे नेताओं में शुमार हैं, जिनकी काम की तारीफ करते उनके विरोधी भी नहीं थकते। उनको लेकर संसद में भी सांसदों ने खुले तौर पर उनकी तारीफ करते हुए कई बार कहा है कि, गडकरी जी विचाराधारा से हटकर देश के लिए काम कर रहे हैं। इसी का उदाहरण तब देखने को मिल जब पिछले दिनों बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव भी उनसे मुलाकात के बाद गडकरी की ईमानदारी के कायल हो गए।

आपको बता दें नितिन गडकरी पिछले दो लोकसभा चुनावों में लगातार नागपुर से सांसद चुनकर आए हैं। 2014 में उन्होंने कांग्रेस के विलास मुत्‍तेमवार को करीब 3 लाख वोटों से हराया था। विलास मुत्‍तेमवार 1998 से 2009 के बीच हुए आम चुनावों में लगातार नागपुर सीट पर जीत दर्ज की थी। नागपुर की लोकसभा सीट हमेशा से ही कांग्रेस का गढ़ रही है। नितिन गडकरी से पहले 1996 में बीजेपी इस सीट पर पहली बार जीत दर्ज की थी। 2019 में गडकरी ने कांग्रेस से कद्दावर नेता नाना पटोले को शिकस्त दी थी। नाना पटोले कई बार गडकरी को अपना राजनीतिक गुरु बता चुके हैं।

 

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा की खबर के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *