नई दिल्ली, 17 सितंबर (PM Vishwakarma Yojana) : भारत देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आज 73वां जन्म दिवस है। वहीं, दूसरी तरफ आज यानी 17 सितंबर को विश्वकर्मा जयंती भी राष्ट्रीय स्तर पर मनाई जा रही है, इसी मौके पर पीएम मोदी ने देश को “प्रधानमंत्री विश्वकर्मा कौशल सम्मान योजना” की सौगात दे दी है। जिसकी घोषणा वित्तीय वर्ष 2023-24 के बजट सत्र के दौरान केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री विश्वकर्मा कौशल सम्मान योजना का एलान किया था। तथा इस योजना के तहत कुल 13000 करोड़ रुपये खर्च किए जाने हैं।

कम शब्दों में समझें योजना को:-

  • कुल 13 हजार करोड़ रुपये का फंड बनेगा

  • पारंपरिक काम करने वालों को फायदा

  • बेसिक और एडवांस ट्रेनिंग दी जाएगी

  • 5 फीसदी की दर से लोन मिलेगा

  • 3 लाख रुपये तक का लोन

  • 18 करोबार योजना में शामिल किए गए हैं

  • कारीगरों ओर शिल्पकारों को लाभ मिलेगा।

 

क्या है पीएम विश्वकर्मा योजना? 

प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना पारंपरिक कौशल वाले लोगों का समर्थन करने वाली योजना है। इस योजना के तहत उदार शर्तों पर तीन लाख रुपये तक का लोन दिया जाएगा। इस योजना के शुरू होने से देशभर के करीब 30 लाख विश्वकर्मा परिवारों को फायदा मिल सकता है।
इसके योजना के जरिए पारंपरिक शिल्प में लगे लोगों को सहायता प्रदान करने पर अधिक ध्यान दिया जाएगा। सरकार की मानें तो यह फोकस न केवल कारीगरों और शिल्पकारों को आर्थिक रूप से सहायता प्रदान करने बल्कि स्थानीय उत्पादों, कला और शिल्प के माध्यम से सदियों पुरानी परंपरा, संस्कृति और विविध विरासत को जीवित और समृद्ध बनाए रखने की इच्छा से भी प्रेरित है।

 

यह भी पढ़ें:-

Asia Cup Final 2023: भारत ने किया एशिया कप 2023 का खिताब अपने नाम, अकेले मोहम्मद सिराज ने ढहा दी लंका, पूरे 91 साल का इतिहास बदल कर रख दिया,मात्र एक ओवर में झटक लिए 4 विकेट

योजना का लाभ कैसे मिलेगा?

पीएम विश्वकर्मा योजना के तहत 13,000 करोड़ रुपये के बजट के साथ केंद्र सरकार द्वारा पूरी तरह से वित्त पोषित किया जाएगा। इस योजना के तहत, बायोमेट्रिक आधारित पीएम विश्वकर्मा पोर्टल का उपयोग करके सामान्य सेवा केंद्रों के माध्यम से विश्वकर्माओं का सबसे पहले तो निशुल्क पंजीकरण किया जाएगा। उसके बाद उन्हें पीएम विश्वकर्मा प्रमाण पत्र और पहचान-पत्र, मूलभूत और उन्नत प्रशिक्षण से जुड़े कौशल तथा 15,000 रुपये का टूलकिट प्रोत्साहन के रूप में दिया जाएगा इसके साथ ही पांच प्रतिशत की रियायती ब्याज दर पर एक लाख रुपये (पहली किश्त) और दो लाख रुपये (दूसरी किश्त) तक मुक्त ऋण सहायता, डिजिटल लेनदेन के लिए प्रोत्साहन और विपणन सहायता के माध्यम से मान्यता प्रदान की जाएगी।

योजना का लाभ कौन उठा पाएगा?

प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना के अंतर्गत जिन लोगों को लाभ मिलेगा, उनमें राजमिस्त्री, नाई, मालाकार, धोबी, दर्जी, ताला बनाने वाले, अस्त्रकार, मूर्तिकार, पत्थर तराशने वाले, लोहार, सुनार, पत्थर तोड़ने वाले, मोची/जूता बनाने वाले कारीगर, गुड़िया और खिलौना निर्माता, नाव निर्माता, फिशिंग नेट निर्माता, टोकरी/चटाई/झाड़ू बनाने वाला, हथौड़ा और टूलकिट निर्माता।

कैसे कर सकते हैं आवेदन?

अगर आप प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना का लाभ उठान चाहते है और आवेदन करना चाहते हैं, तो इसके लिए आप अपने नजदीकी जनसेवा केंद्र पर जा सकते हैं और कुछ दस्तावेजों की मदद से आवेदन कर सकते हैं।

अगर आप इस प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना में आवेदन करना चाहते हैं, तो आपके लिए ये जानना जरूरी है कि आवेदक की उम्र 18 साल या उससे अधिक हो।

आवेदन के वक्त इन दस्तावेजों की पड़ेगी जरूरत:-

  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाणपत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • बैंक अकाउंट पासबुक।

आवेदन के वक्त इन दस्तावेजों की पड़ेगी जरूरत:-

  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाणपत्र
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • बैंक अकाउंट पासबुक।

यहाँ मिलेगी आपको इस योजना की सारी जानकारी:-

अगर आप भी प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना से जुड़ना चाहते हैं या इसके बारे में जानना चाहते हैं, तो आप पीएम विश्वकर्मा योजना की आधिकारिक वेबसाइट pmvishwakarma.gov.in पर जा सकते है।

 

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा कि खबर के साथ

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *