BRICS Summit 2023: दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग में होने वाले 15वें ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए 22 अगस्त की शाम दक्षिण अफ्रीका के जोहान्सबर्ग पहुँच चुके हैं। जिस दौरान उनका एयरपोर्ट पर गर्मजोशी से स्वागत किया गया। जहां पर काफी संख्या में भारतीय समुदाय के लोग मौजूद रहे। जिस दौरान मोदी ने लोगों का अभिवादन किया और हाथ भी मिलाया। आपको बता दें कि राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा के निमंत्रण के बाद पीएम मोदी यहां आए हैं तथा वे 22 से 24 अगस्त तक रहेंगे।

 

उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के लिए रवाना होने से पहले विश्वास जताते हुए कहा कि, यह सम्मेलन सदस्य देशों को भविष्य के सहयोग के क्षेत्रों की पहचान करने और संस्थागत विकास का जायजा लेने का उपयोगी अवसर प्रदान करेगा। आपको बता दें कि इस समूह में भारत के अलावा रूस, चीन, ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका है, और साल 2019 और कोरोना के बाद ब्रिक्स नेताओं का यह पहला आमने-सामने का शिखर सम्मेलन है।

 

पीएम मोदी ने ‘एक्स’ (ट्विटर) पर लिखते हुए कहा कि, “मैं ‘ब्रिक्स-अफ्रीका आउटरीच’ और ‘ब्रिक्स प्लस डायलॉग’ कार्यक्रमों में भी शामिल होऊंगा. ब्रिक्स शिखर सम्मेलन ‘ग्लोबल साउथ’ के लिए चिंता का सबब बने विभिन्न मुद्दों और विकास के अन्य क्षेत्रों पर चर्चा करने के वास्ते मंच प्रदान करेगा.”

मोदी ने कहा कि वह कई अतिथि देशों के साथ बातचीत करने के लिए उत्सुक हैं, जिन्हें इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया है. उन्होंने कहा कि मैं जोहानिसबर्ग में मौजूद कुछ नेताओं के साथ द्विपक्षीय बैठकें करने को लेकर भी उत्सुक हूँ।

https://upload.wikimedia.org/wikipedia/commons/1/16/Informal_meeting_of_the_BRICS_during_the_2019_G20_Osaka_summit.jpg

इसके अलावा इस बात कि भी चर्चा है कि क्या पीएम मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच ब्रिक्स शिखर बैठक से इतर चर्चा होगी? अगर होगी भी तो क्या होगी? जब विषय पर सवाल किया गया तो विदेश सचिव क्वात्रा ने सोमवार को मीडिया से कहा कि पीएम मोदी की द्विपक्षीय बैठकों को अभी अंतिम रूप दिया जा रहा है।

ये है एजेंडा:-
ब्रिक्स के विस्तार के लेकर क्वात्रा ने कहा, ‘‘जब ब्रिक्स विस्तार की बात आती है तो हमारा इरादा सकारात्मक है.  ब्रिक्स का विस्तार शिखर बैठक का एक महत्वपूर्ण एजेंडा है.  करीब 23 देशों ने समूह की सदस्यता के लिए आवेदन किया है.

ब्रिक्स का ये है योगदान ?
पीटीआई के अनुसार, ब्रिक्स में शामिल देशों की कुल आबादी विश्व की जनसंख्या कि 41 प्रतिशत है, जबकि वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद में 31.5 प्रतिशत और वैश्विक व्यापार में 16 प्रतिशत योगदान है। जिसमे ब्राजील, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका 2022 में 166 ब्रिक्स आयोजनों में रूस के साथ जुड़े और कुछ सदस्य रूस के लिए महत्वपूर्ण निर्यात बाजार बन गए।

https://img.etimg.com/thumb/width-1200,height-900,imgsize-85378,resizemode-75,msid-102878596/news/india/nations-aspire-to-join-brics-for-unfinished-business-of-last-century-says-senior-indian-diplomat.jpg

 

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा कि खबर के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *