नई दिल्ली: पंजाब से आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद राघव चड्ढा के लिए नई मुश्किल खड़ी हो गई है जिसमे जाली हस्ताक्षर करने के मामले में उनपर यह कार्यवाही की गई है। जिसपर उन्हें प्रिविलेज कमेटी का फैसला आने तक राज्यसभा से निलंबित कर दिया गया है। इसके साथ ही उनपर मिसबिहेव करने के भी आरोप लगे हैं।

दरअसल मामला कुछ इस प्रकार है कि, राघव चड्‌ढा ने बीते दिन ही एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित की थी। जिसके आधार पर यह यह कार्रवाई की गई है। जबकि पंजाब में इस कार्यवाही भरपूर विरोध भी शुरू हो गया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार जैसे ही फर्जी हस्ताक्षर का मामला सामने आया उसके बाद इसे प्रिविलेज कमेटी के पास विचार के लिए भेज दिया गया था। और पहले से तय नियमों के अनुसार जब मामला प्रिविलेज कमेटी के पास हो तो उसे डिफेंड करना नियमों का उल्लंघन माना जाता है। वहीं राघव चड्‌ढा ने बीते दिन मीडिया के सामने खुद को डिफेंड करके इन नियमों का उलँघन किया। जिसके बाद ही उन्हें सस्पेंड किया गया।

निलंबित होने के बाद राघव चड्‌ढा ने भी इस पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। जिसमे उन्होंने भाजपा से उन्हें निलंबित करने के कारण पूछे हैं। साथ ही ने कहा- संसद से उन्हें क्यों निलंबित किया गया। उन्होंने देश की सबसे बड़ी पार्टी के सबसे बड़े नेताओं से सवाल पूछे, या दिल्ली सेवा बिल पर सबसे बड़े नेताओं से इंसाफ मांगा।

 

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि, वो विशेषाधिकार समिति द्वारा भेजे नोटिस का जवाब देंगे। तथा बतौर सांसद मेरी छवि को नुकसान पहुंचाने वाले भाजपा के हथकंडे का भी खुलासा करेंगे। जबकि आम आदमी पार्टी ने राघव चड्ढा के खिलाफ हुई इस कार्रवाई को साजिश बताया है।

 

अधिक खबरों के लिए जुड़े रहें हरियाणा कि खबर के साथ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *