ये अध्यादेश न फाड़ते तो ये सब न भुगतना पड़ता